Gharelu Nuskhe DetailBack

HospitalSKundali

लेप से अतिसार ठीक

अतिसार रोग में जब पेट चलने लगे और दस्त हो तो इसके उपचार के लिए हमे आम की गुठली की गिरी , बेलगिरी और मिश्री को मिलाकर पीसकर चूर्ण तैयार कर ले । फिर इसकी ४-६ ग्राम की मात्रा में पानी के साथ खाने से अतिसार की बीमारी ठीक हो जाती है । 
 
आम की गुठली की गिरी और आम का गोंद बराबर मात्रा में लेकर एक दिन में २-३ बार सेवन करने से अतिसार की बीमारी ठीक हो जाती है ।
१० -२०  ग्राम आम की गुठली की गिरी में कांजी मिलाकर पीसकर लेप तैयार कर ले । इस तैयार लेप को पेट पर लगाने से बहुत फायदा मिलता है । और पेट दर्द ठीक हो जाता है ।

अतिसार -. 
1. इस बीमारी को ठीक करने के लिए  आम की गुठली  की गिरीए बेलगिरी और मिश्री का एक .एक भाग लो । इन तीनो को मिलाकर पीस कर बारीक़ चूर्ण तैयार कर ले । इस चूर्ण की ४-६ ग्राम की मात्रा में सुबह .शाम पानी के साथ खाए । इस उपयोग को करने से अतिसार बीमारी ठीक हो जाती है ।
 
2. आम के पेड़ का गोंद और गुठली की गिरी दोनों बराबर मात्रा में ले । इसे रोजाना एक ग्राम की मात्रा में एक दिन में २-३ बार खाए । इसका सेवन करने से अतिसार मिटता है ।
 
3. १०० ग्राम पानी में आम की गुठली कम से कम पांच ग्राम मिलाकर उबाल ले । जब ये उबल जाये तो इसमें पांच ग्राम आम की गुठली की गिरी और मिलाकर पीसकर बारीक़ कर ले । इस प्रकार औषधि तैयार हो जाती है । इसका सेवन दिन में तीन बार करना चाहिए । और इसके बाद दही या चावल खाना चाहिए । इस प्रकार के उपचार से  अतिसार ठीक हो जाता है ।
 
4 .आम के पेड़ की अंदर की छाल और जौ को कूटकर इन दोनों को आधी किलो पानी में  थोड़ा गर्म कर ले । जब ये ठंडा हो जाये तो इसे थोड़ी सी मात्रा में शहद के साथ खाने से अतिसार ठीक हो जाता है । 
 
5 . आम की गुठली की गिरी और कांजी दोनों  १०-२० ग्राम की मात्रा में पीसकर गाड़ा लेप तैयार कर ले । इस लेप को पेट पर लगाये । इससे बहुत लाभ होगा । इसके आलावा आम की ताज़ी छाल को दही के पानी के साथ पीसकर लेप बनाये । इस तैयार लेप को पेट के आसपास लगाने से पेट की बीमारी दूर हो जाती है और साथ ही साथ अतिसार का रोग भी ठीक हो जाता है ।
 
रक्तातिसार-
ऊपर लिखी सामग्रियों को मिला कर इक्क्ठा कर ले । और इसकी ६-८ ग्राम की मात्रा में को पानी के साथ पिये इससे रक्तातिसार की शिकायत दूर हो जाती है ।